नालंदा हड्डी एवं रीढ अस्पताल को एनएएबीएच और क्वालिटी काउंसिल ऑफ इंडिया से मिली मान्यता, मरीजों को मिलेगी और बेहतर सुविधाएं,, डॉ कुमार अमरदीप

दीपक विश्वकर्मा,,, बिहारशरीफ के एनएच पर स्थित नालंदा हड्डी एवं रीढ अस्पताल को एनएबीएच और क्वालिटी काउंसिल ऑफ इंडिया द्वारा मान्यता मिल गई है। मान्यता मिलने पर अस्पताल के संचालक डॉ कुमार अमर दीप नारायण और उनकी धर्मपत्नी डॉ रश्मि नारायण ने बताया कि अब इस अस्पताल में आने वाले मरीजों को और बेहतर सुविधाएं उपलब्ध होंगी। साथ ही साथ सरकार द्वारा दी जाने वाली सुविधाओं का भी लाभ उन्हें मिलेगा ।उन्होंने बताया कि यह अस्पताल नालंदा जिला का पहला एनएबीएच और क्वालिटी काउंसिल ऑफ इंडिया द्वारा प्रमाणित अस्पताल हो गया है

।,,,,, प्रमाणन का मुख्य उदेश्य,,,,
स्वास्थ्य व्यवस्था में प्रगति तथा गुणवत्तापूर्ण चिकित्सा एवं रोगियों की सुरक्षा में उन्नति है और यह स्वास्थ्य सुरक्षा की दृष्टी से
संगठन के लिए लगातार सुधार का प्रयास है।
नालंदा हड्डी एवं रीढ़ सेंटर, NABH (National Accreditation Board for Hospitals & Healthcare
Providers ) के मानकों के अनुरूप अपने को ढालते हुए मरीज के आगमन से लेकर उनकी पूरी देखभाल,
समुचित चिकित्सा, उनके अधिकारों तथा कर्तव्यों के प्रति जागरूकता तथा शिक्षा, सभी सुविधाओं सहित
hospital infection control policy के साथ साथ; अस्पताल कर्मियों के लगातार क्षमता में बढ़ाव,
कार्यप्रबंधन में कुशलता, सुरक्षा मानकों में सुधार तथा समुचित उपयोग, जानकारी की सुगमता सहित मानवबल
के क्षमता में बढाव हेतू समय-समय पर शैक्षणिक कार्यक्रम, प्रश्नोत्तरी तथा quality training कार्यक्रमों के
माध्यम से मरीज तथा अस्पताल की बेहतरी के लिए अनवरत प्रयासरत हैं।
NABH की मान्यता गुणवत्ता तथा सुरक्षा में मानकों पर खरे उतरने के बाद ही प्राप्त होती है, NABH की
मान्यता इस बात का प्रमाण है की मरीजों को गुणवत्ता पूर्ण उत्कृष्ट चिकित्सा सुरक्षा के साथ लगातार प्राप्त
और संगठन लगातार सुधार की ओर अग्रसर है।


NABH राष्ट्रीय प्रत्यायन बोर्ड अस्पतालों एवं स्वास्थ्य सेवा प्रदाताओं के लिए एक भारतीय मान्यता है, यह
Quality council of India (QCI) ‘भारतीय गुणवत्ता परिषद्’ का एक घटक बोर्ड है जो स्वास्थ्य
संगठनों के लिए मान्यता कार्यक्रम स्थापित करने और संचालित करने के लिए स्थापित किया गया है।
2005 में गठित यह भारत में अस्पतालों के लिए प्रमुख मान्यता है उपभोक्ताओं की बहुत वांछित जरूरतों
को पूरा करने और स्वास्थ्य उद्दयोग की प्रगति के लिए बैंचमार्क निर्धारित करने के लिए बोर्ड को संरचित
किया गया है।
“आज की दुनिया में, स्वास्थ्य सेवा उद्योग कॉर्पोरेट विकास (Corporate Growth) व्यापार प्रतिस्पर्द्धा, (
Business Competition) चिकत्सा पर्यटन (Medical Tourism ) चिकित्सा बीमा (Medical insurance )
इत्यादि जैसी विभीन शक्तियो से प्रभावित है। इसके करण, अस्पतालों में स्वास्थ्य देखभल की गुणवत्ता
प्रभावित होती है और रोगी की अपेक्षाएँ बढ़ जाती है। इसने राष्ट्रीय और आंतरिक नियमक निकाय (National
& internal regulating boadies) का गठन किया है जो अस्पतालों को मान्यता प्रदान करते है, यदि वे
स्वास्थ्य देखभाल में गुणवत्ता आश्वासन (quality assurance) के निर्धारित मानदंडों को पूरा करते है nabh
अस्पतालों और स्वास्थ्य सेवा प्रदाताओं के लिए राष्ट्रीय प्रत्यायन बोर्ड भारत को स्वास्थ्य सेवा शासी निकाय (
healthcare govering body) है जो अपने नियमों के माध्यम से अस्पतालों में गुणवतापूर्ण स्वास्थ्य देखभाल (
Quality Heathcare) और अद्वितीय रोगी अनुभव सुनिश्चित करता है।’
QCI [( Quality Council of India ) भारतीय गुणवत्ता परिषद् ] क्या है ?
QCI अस्पतालों और स्वास्थ्य सेवा प्रदाताओं के लिए राष्ट्रिय गुणवत्ता अनुमोदन परिषद् हैं।
QCI एक मदर बोर्ड है जिसका एक हिस्सा NABH है जो स्वास्थ्य सेवा प्रदाताओं और अस्पतालो को
गुणवत्ता दिशानिर्देशो के पालन के आधार पर मान्यता प्रदान करने के लिए स्थापित किया गया है।
QCI अस्पतालों की गुणवत्ता को लागू करने, बनाए रखने तथा उसमें सुधार की ओर अग्रसर करने का
माध्यम हैं।

अस्पतालों के लिए QCI का क्या अर्थ है ?
48%
QCI अनुमोदन :-

  • इस बात का प्रमाण है कि अस्पतालों वैश्विक मानकों के अनुसार गुणवत्ता पूर्ण स्वास्थ्य सेवा प्रदान करता है।
    (Quality healthcare as per global standards)

* ट्रेन द ट्रेनर प्रोग्राम के तहत नई नई चिकित्सा विधि के समावेश में सहभागिता को बढ़ावा देता हैं।

  • QCI, NABH के साथ CGHS /ECHS इम्पैनलमेंट के लिए अस्पताल को अनुमोदित करती हैं।
    CGHS – central government health scheme
    ECHS- Ex-Employee contributory health scheme
    अस्पतालों को :-
    इसके द्वारा प्रदान की जाने वाली सेवाओं को प्रभाषित और प्रदर्शित करता है ।( Define and display the
    services it provides)
    निर्णय लेने से पहले रोगी और उसके परिवार को शिक्षित करते हुए, प्रारम्भिक मूल्यांकन बहु
    अनुशासनात्मक और निरंतर रोगी देखभाल प्रदान करते हुए रोगी के निर्वहन का दस्तावेज सुरक्षित रखता हैं
    *
    QCI, NABH के साथ संक्रमण नियंत्रण एवं निगरानी के साथ विसंक्रमण एवं जैव अपशिष्ट प्रबंधन की
    गुणवत्ता बनाए रखने में निरंतर प्रयासरत रहता हैं।
    QCI (NABH के साथ) ये सुनिश्चित करता है कि हमारा अस्पताल सरकार द्वारा मान्यता प्राप्त हर उन
    नियमों का पालन करता है जो मरीज की सुरक्षा ईलाज एवं गुणवत्ता के लिए अति आवश्यक है । यह
    नालंदा हड्डी एवं रीढ़ सेंटर प्रा. लि. को दूसरे अस्पतालों से विशिष्ट बनाता है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Next Post

विश्व पर्यावरण दिवस के मौके पर नगर निगम के भावी मेयर प्रत्याशी प्रफुल्ल कुमार द्वारा किया गया पौधे का वितरण

Sun Jun 5 , 2022
Post Views : 1085 144 Print 🖨 PDF 📄 eBook 📱 दीपक विश्वकर्मा ,,विश्व पर्यावरण दिवस के मौके पर बिहार शरीफ सुभाष पार्क के समीप नगर निगम के भावी मेयर प्रत्याशी प्रफुल्ल कुमार द्वारा पौधा वितरण किया गया ।इस मौके पर उन्होंने लोगों से पर्यावरण की सुरक्षा के लिए पेड़ […]

You May Like

Breaking News