|| News Today Media || || News Today Media || || News Today Media || || News Today Media || || News Today Media || || News Today Media || || News Today Media ||

  न्यूज़ टुडे नालंदा -समर्थन मूल्य से अधिक कीमत में धान की खरीद करेगा पटेल एग्री इंडस्ट्रीज , कृषि मंत्री ने पहल का किया स्वागत  ,,,,,,,

दीपक विश्वकर्मा ( 9334153201 ) नालंदा जिले के नूरसराय प्रखंड के दह पर पर गॉंव में पटेल एग्री इंडस्ट्रीज प्राइवेट लिमिटेड के द्वारा किसान चौपाल का आयोजन कर किसानों की आमदनी कैसे दोगुना  की जाए इस पर चर्चा की गई | प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का सपना है कि वर्ष 2022 तक हम किसानों की आमदनी को दोगुना करेंगे किसानों की जो लागत मूल्य है उसे कम करने का काम करेंगे और ई  मार्केट के माध्यम से किसानो को बाजार उपलब्ध कराएंगे ताकि किसानों को कोई परेशानी न हो, उन्नत किस्म का बीज ,खाद सिंचाई की सुविधा यह सभी व्यवस्थाएं प्रधानमंत्री ने अपनी योजनाओं में संकल्प पत्र के माध्यम से शामिल किया है और इसे सार्वजनिक करने के लिए किसान एग्रो इंडस्ट्रीज के द्वारा इस किसान चौपाल का आयोजन किया गया |
किसान चौपाल का उद्घाटन करते हुए बिहार के कृषि मत्स्य एवं पशुपालन मंत्री प्रेम कुमार ने कहा की राज्य सरकार द्वारा 10 जून से लेकर 30 जून तक राज्य के 38 जिले के 524 प्रखंड के 80405  पंचायतों में किसान चौपाल का आयोजन किया जाएगा  | उन्होंने कहा की आज जो यह किसान चौपाल आयोजित किया गया है उसमे जो समर्थन मूल्य है उससे अधिक मिलने पर चर्चा हुई है जिसमे 25 रूपए किलो के हिसाब से धान खरीद की बात कही गयी है |  उन्होंने कहा की इससे बड़ी बात क्या हो सकती है | यह एक अच्छी शुरुआत है अच्छी पहल है इसका हम स्वागत करते हैं और विश्वास दिलाते हैं कि विभाग के स्तर पर इसका अध्ययन करने के बाद इसको आगे और विस्तार करने का काम करेंगे ताकि बिहार के किसान की आमदनी दो गुनी होसके |
इस मौके पर पूर्व विधायक प्रेम रंजन पटेल , जीडीयू प्रवक्ता संजय कान्त , बीजेपी नेता कौशलेन्द्र कुमार उर्फ़ छोटे मुखिया , पूर्व जिला परिषद् सदस्य सुधीर कुमार, वार्ड पार्षद नीरज कुमार के अलावे कई गणमान्य लोग और भारी संख्या में किसानो ने हिस्सा लिया | इस मौके पर भोज का भी आयोजन किया गया | आगत अतिथियों का स्वागत करते हुए पटेल एग्री इंडस्ट्रीज प्राइवेट लिमिटेड के निदेशक राकेश पटेल ने बताया की पूर्व में यहाँ के किसान सीता , चावल का उत्पादन करते थे बाद में कतरनी और सोनम करने लगे जिससे उनकी आमदनी उतनी नहीं हो पाती थी जिसकी उम्मीद रखते थे बर्तमान समय में वे किसानो को 17 -18 धान का बीज कम कीमत में उपलब्ध करा रहे हैं जो अन्य बीज की तुलना में कम समय में उपज के साथ साथ इसमें पानी और खाद कम लगता है यानि कम लागत में अधिक मुनाफा |

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *